DSLR Full Form: DSLR क्या होता है? DSLR कैसे काम करता है?

DSLR से आपने कभी न कभी फोटो तो जरूर क्लिक करवाई होगी। फिर चाहे वह शादी ब्याह हो या फिर पासपोर्ट साइज फोटो। Dslr में एक खास बात है की आप चाहे कितने ही अच्छे फ़ोन से फोटो क्लिक कर ले लेकिन फिर भी डीएसएलआर जैसे क्वालिटी कोई फ़ोन नहीं दे सकता है। क्या आपने कभी सोचा है की यह dslr काम कैसे करता है या फिर dslr full form क्या होती है?

अगर आपको भी dslr full form और डीएसएलआर के बारे में कोई जानकारी नहीं है तो यह पोस्ट आपके बहुत काम की है क्योकि इसमें आपको dslr की full form से लेकर dslr के बारे में विस्तार से जानकारी मिलेगी। जो इससे पहले बेशक आपको पता नहीं होगी।

DSLR Full Form क्या होती है?

DSLR की Full Form “Digital Single Lens Reflex” होती है। डीएसएलआर DSLR एक प्रकार से SLR कैमरा का Upgraded Version हैं।

DSLR Full Form In Hindi

DSLR को हिंदी में “एक लेंस वाला डिजिटल रिफ़्लेक्स कैमरा” कहते है क्योकि इसमें एक ही लेंस होता है।

DSLR क्या होता है?

DSLR एक डिजिटल कैमरा है जो की slr का ही अपग्रेड वर्जन है। डीएसएलआर से पहले slr कैमरा आया करते थे जहाँ एक लेंस लगा होता है इस लेंस के द्वारा ही फोटो खींची जाती थी और इसी लेंस के द्वारा viewfinder में फोटो को देखा जाता था। लेकिन slr में एक फोटो रील लगी होती थी जिसमें फोटो capture होती थी।

डीएसएलआर एक डिजिटल कैमरा है इसमें भी एक ही लेंस होता है जिससे फोटो खींची जाती और viewfinder में फोटो देखि जाती है। लेकिन डीएसएलआर की खास बात यह है की डीएसएलआर फोटो को डिजिटली सेव करता है। DSLR में फोटो मेमोरी कार्ड में सेव हो जाती है जिसे आप पसंद आने पर सेव कर सकते है और पसंद न आने पर delete भी कर सकते है। इसमें आप जितनी चाहे उतनी एक दिन में फोटो खींच सकते है।

DSLR Camera अब तक का सबसे आधुनिक कैमरा है। डीएसएलआर कैमरा में आप manuel mode को सेलेक्ट करके फोटो को अपनी मर्जी के मुताबिक खींच सकते है। DSLR आप वातावरण के अनुसार सेटिंग को बदलकर फोटो को खींच सकते है।

DSLR कैसे काम करता है?

DSLR में 8 मुख्य भाग होते है जिनकी मदद से एक फोटो खींच कर तैयार होकर आती है। Camera Lens, Reflex Mirror, Shutter, Image Sensor,  Focusing Screen, Condenser Lens, Pentaprism, Viewfinder आदि।

जब डीएसएलआर को on किया जाता है तो सबसे पहले light कैमरा लेंस में आती है और रिलेक्स मिरर से टकराती है फिर रिफ्लेक्स मिरर इसे कंडेंसर लेंस और फोकसिंग लेंस से होता हुआ पेन्टाप्रिज़्म में भेजता है फिर लाइट पेन्टाप्रिज़्म से रिफ्लेक्ट हो कर viewfinder में आती है। आप इसे निचे इमेज में देख सकते है। इससे लेंस कर सारा view डीएसएलआर में viewfinder में show करता है।

dslr full form

जब डीएसएलआर कैमरा से फोटो को कैप्चर किया जाता है तो क्लिक बटन के दबाते ही रिफ्लेक्स मिरर बंद हो जाता है और shuttel खुल जाता है और लाइट सीधे कैमरा लेंस से इमेज सेंसर में जाती है और जो view पहले viewfinder में दिख रहा था इमेज सेंसर में कैप्चर हो जाता है और फिर प्रोसेसर इसे डिजिटली कन्वर्ट करके डिस्प्ले पर show करता है।

DSLR कैमरा के फायदे क्या क्या है?

वैसे तो DSLR के कई सारे फायदे है अगर उन पर आज मैं बात करने लगा तो यह आर्टिकल बहुत बड़ा हो जाएगा। तो मैं आपको कुछ मुख्य फायदे बताऊंगा तो चलिए फिर देखते है।

Picture Quality – डीएसएलआर की सबसे खास बात इसकी पिक्चर क्वालिटी है। डीएसएलआर जैसी पिक्चर क्वालिटी आपको दुनिया के किसी भी कैमरा या फ़ोन में नहीं मिलेगी।

Low Noise – मैं इसको low noise की जगह no noise कहूँगा। क्योकि डीएसएलआर से ली गई फोटो में किसी भी तरह का कोई नॉइज़ नहीं होता है।

Shuttle Speed – डीएसएलआर किसी भी कैमरा से फ़ास्ट पिक्चर कैप्चर करता है डीएसएलआर के sports mode में भागते हुए खिलाड़िओ की भी फोटो खींची जा सकती। वह भी बिना blur करे।

Fast Focus – डीएसएलआर की फोकस स्पीड भी बाकि कैमरा से काफी ज्यादा होता है।

Easy Editing – डीएसएलआर से ली गयी फोटो बहुत अच्छी एडिट होती है क्योकि डीएसएलआर से आप raw image भी ले सकते है और रॉ इमेज जेपीईजी इमेज से ज्यादा अच्छी फोटो एडिट होती है।

Interchangeable Lenses – डीएसएलआर में आप अपनी आवश्यकता के अनुसार लेंस को बदल सकते है। आप जिस भी तरह की फोटो जिस भी परिस्थिति में में lena चाहते है उसके अनुसार लेंस को बदल सकते है।

Night Photography – Night photography के लिए भी डीएसएलआर बहुत अच्छा विकल्प है।

DSLR और SLR में क्या अंतर होता है?

DSLRSLR
DSLR एक डिजिटल कैमरा है।SLR एक एनालॉग कैमरा है।
DSLR में फोटो कैमरा लेंस के द्वारा मेमोरी कार्ड में सेव होती है जिसे आप जब चाहे प्रिंट निकाल सकते है।SLR कैमरा फोटो को एक रील में सेव करता है जिसके भर जाने के बाद फोटो रील धुलने के लिए जाती है और फिर ओरिजिनल प्रिंट निकलता है।
DSLR में आप असीमित फोटो खींच सकते है।SLR में एक रील की जितनी कैपेसिटी होती है उतनी आप फोटो खींच सकते है।
DSLR में फोटो खराब या पसंद ना आने पर फोटो को डिलीट कर सकते है।SLR में फोटो खराब होने के बाद भी फोटो को डिलीट नहीं कर सकते है।
DSLR कैमरा में खींची गयी फोटो को कंप्यूटर में डालकर एडिट भी किया जा सकता है। SLR कैमरा में एक बार जो फोटो खींच गयी सो कीच गई इसमें फोटो को एडिट नहीं किया जा सकता।
DSLR में आप एक फोटो का भी प्रिंट निकलवा सकते है। SLR में कैमरा में जब तक कैमरा रोल पूरा भर नहीं जाता है तब तक वह फोटो आप निकलवा नहीं सकते है। रोल भर जाने के बाद फिर वह रील धुलने के लिए जाती है।
DSLR कैमरा में एक डिजिटल 360 डिग्री डिस्प्ले होती है जिसमें photo खींचने के बाद आप उसे देख भी सकते है।SLR कैमरा में कोई डिस्प्ले नहीं होती है जिससे फोटो खींचने के बाद भी उसे देखा नहीं जा सकता है।
DSLR में आपको ज्यादा फीचर और एसएलआर से बेहतर पिक्चर क्वालिटी मिलती है। SLR में डीएसएलआर के मुकाबले कम फीचर होती है और इसकी पिक्चर क्वालिटी भी डीएसएलआर से हलकी होती है।
DSLR कैमरा के साथ आप creativity कर सकते है।  SLR में आप creativity नहीं कर सकते है।

DSLR Camera का इतिहास क्या है?

सन 1969 में Willard S। Boyle और George E। Smith ने डिजटल सेंसर का उपयोग करके पहली इमेजिंग तकनीक का अविष्कार किया था। डिजिटल फोटोग्राफी में उनके योगदान के लिए बॉयल और स्मिथ को 2009 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया।

इसके बाद Eastman Kodak के इंजीनियर Steven Sasson ने सन 1975 में पहले डिजिटल कैमरा का अविष्कार किया। इसका वजन 8 पाउंड यानी 3.6 किलोग्राम था और यह 0.1 megapixel का कैमरा था। इसका  resolution 100×100 था। यह कैमरा ब्लैक एंड वाइट फोटो रिकॉर्ड करता था। इसकी फोटो एक कैसेट में रिकॉर्ड होती थी और इस प्रक्रिया में 23 सेकंड लगते थे। यह अब तक का सबसे फ़ास्ट कैमरा था इससे पहले के कैमरा में इमेज को capture करने में 8 घंटे लगते थे।

इसके बाद 25 अगस्त 1981 को सोनी ने Sony Mavica पर से पर्दा उठा दिया।

इसके बाद सन 1986 में जापानी कंपनी Nikon ने Photokina ( फोटोकिना यूरोप में फोटोग्राफिक और इमेजिंग इंडस्ट्री के लिए आयोजित एक ट्रेड फेयर होता है।) में अपना पहला डीएसएलआर कैमरा का खुलासा किया। इसके बाद सन 1988 में, Nikon ने पहला कमर्शियल DSLR कैमरा, QV-1000C जारी किया।

इसके बाद सन 1986 kodak ने 1।3 megapixel का सीसीडी इमेज सेंसर को बनाया। यह पहला ऐसा सेंसर था जिसमें 1 मिलियन से अधिक पिक्सेल थे। इसके बाद सन 1987 में kodak ने इस सेंसर को एक शुरूआती डीएसएलआर बनाने के लिए अपने Canon F-1 फिल्म SLR में जोड़ा गया।

इसके बाद सन 1995 में Nikon ने Fujifilm के साथ मिलकर Nikon E series को पर काम करना शुरू किया। और दिसंबर 1999 में Nikon E series के E2/E2S, E2N/E2NS और E3/E3S को रिलीज किया।

इसके बाद बाकी की कंपनी जैसे Canon, Fujifilm, Minolta, Pentax, Olympus, Panasonic, Sony, Samsung और Sigma जैसी कंपनी डीएसएलआर की मार्किट में उतर गयी। इसके बाद मार्किट में हर साल कोई न कोई कंपनी डीएसएलआर लांच करने लगी। इसके बाद जून 2012 में canon ने पहला टचस्क्रीन डिस्प्ले के साथ डीएसएलआर लॉन्च किया।

बस यही कुछ है dslr के पीछे की history।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद की आपको DSLR Full Form और डीएसएलआर क्या है? डीएसएलआर कैसे काम करता है? इसके फायदे और डीएसएलआर की history और बाकी की सारी जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर फिर भी आपका कोई सवाल हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है और यह पोस्ट आपको कैसी लगी आप हमे निचे कमेंट करके बता सकते है और इसी तरह की मजेदार और जानकारी पूर्ण आर्टिकल के लिए आप हमारा newsletter subscribe भी कर सकते है।

कैमरा का इतिहास क्या है? सम्पूर्ण जानकारी

Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin